rr

Goddess Saraswati who is considered as the goddess of knowledge and arts is worshipped during Diwali Puja, Navratri Saraswati Puja and Vasant Panchami. In Gujarat, Saraswati Puja during Diwali is also known as Sharda Puja and Chopda Puja.

To begin Saraswati Puja, Bahi-Khate i.e. account books are kept at the place of worship. A Swastika symbol should be drawn on account books with Rochana or red Sandal paste. Once Swastika is drawn on account books, Saraswati Puja can begin.

Dhyana (ध्यान)
Puja should begin with the meditation of Bhagawati Saraswati. Dhyana should…

Read More
lord_ganesha_sitting_on_elephant-540x500

1. Vakratunda Ganesha Mantra
श्री वक्रतुण्ड महाकाय सूर्य कोटी समप्रभा
निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्व-कार्येशु सर्वदा॥
Shree Vakratunda Mahakaya Suryakoti Samaprabha
Nirvighnam Kuru Me Deva Sarva-Kaaryeshu Sarvada॥

2. Ganesha Shubh Labh Mantra
ॐ श्रीम गम सौभाग्य गणपतये
वर्वर्द सर्वजन्म में वषमान्य नमः॥
Om Shreem Gam Saubhagya Ganpataye
Varvarda Sarvajanma Mein Vashamanya Namah॥

3. Ganesha Gayatri Mantra
ॐ एकदन्ताय विद्धमहे, वक्रतुण्डाय धीमहि,
तन्नो दन्ति प्रचोदयात्॥
Om Ekadantaya Viddhamahe, Vakratundaya Dhimahi,
Tanno Danti Prachodayat॥

Read More
002

शुक्र ग्रह की शान्ति के उपाय- Remedies for Venus ग्रहों में शुक्र को विवाह व वाहन का कारक ग्रह कहा गया है (Venus is the Karak planet of marriage and transportation). इसलिये +वाहन दुर्घटना से बचने के लिये भी ये उपाय किये जा सकते है. शुक्र के उपाय करने से वैवाहिक सुख की प्राप्ति की संभावनाएं बनती है. वाहन से जुडे मामलों में भी यह उपाय लाभकारी रहते है. शुक्र की वस्तुओं से स्नान (Bathe Using the Products Related to Venus ग्रह की वस्तुओं से स्नान करना उपायों के…

Read More
001

ज्योतिषशास्त्र की दृष्टि में धन वैभव और सुख के लिए कुण्डली में मौजूद धनदायक योग या लक्ष्मी योग काफी महत्वपूर्ण होते हैं. जन्म कुण्डली एवं चंद्र कुंडली में विशेष धन योग तब बनते हैं जब जन्म व चंद्र कुंडली में यदि द्वितीय भाव का स्वामी एकादश भाव में और एकादशेश दूसरे भाव में स्थित हो अथवा द्वितीयेश एवं एकादशेश एक साथ व नवमेश द्वारा दृष्ट हो तो व्यक्ति धनवान होता है.शुक्र की द्वितीय भाव में स्थिति को धन लाभ के लिए बहुत महत्व दिया गया है, यदि शुक्र द्वितीय…

Read More