सूर्य को सभी ग्रहों (planets) में राजा का स्थान दिया गया है. सूर्य का स्वभाव कठोर तथा क्रूर भी कहा गया है. यह ग्रह सभी को प्रकाश देता है. सूर्य को अधिकार व सत्ता का मुख्य ग्रह माना जाता है. सत्ता व अधिकारों का प्रयोग करने वाले व्यक्तियों पर सूर्य का विशेष प्रभाव होता है. सूर्य को शरीर में आत्मा व चेतना का स्थान दिया गया है.

शरीर में उर्जा निर्माण तथा रोगों से लड़ने की शक्ति के लिये सूर्य को विशेष रुप से देखा जाता है. सूर्य आत्मकारक होने के कारण हृदय में निवास करते है. सूर्य सभी ग्रहों में राजा होने के कारण उसमें प्रशासनिक कार्यो (administrative acts) को करने की विशेष योग्यता होती है. इसलिये जिन व्यक्तियों की कुण्डली में सूर्य सुस्थिर हो उन व्यक्तियों को प्रबन्धन व प्रशासन के कार्य करने में कुशलता प्राप्त होती है. सूर्य से प्रभावित लोग अधिकार व शक्ति रखना पसन्द करते है.

सूर्य का स्थान शरीर के अंगों में :- ( Placement of Sun in the Different Organs of Body)
शरीर के अंगों में सूर्य को हृदय के बाद रीढ की हड्डी का स्थान दिया गया है. शरीर में उर्जा शक्ति का निर्माण करने के लिये सूर्य देव ही प्रभावी होते है. व्यक्ति को रोगों से लड़ने की क्षमता भी सूर्य के फलस्वरुप ही प्राप्त होती है. दाई आंखों (right eye) में किसी प्रकार की परेशानी के विषय में भी सूर्य को ही देखा जाता है.

सूर्य का स्वभाव:-(Nature of Sun)
सूर्य स्वभाव से अधिकार पसंद प्रवृति के है. इनमें नेतृत्व की क्षमता (leadership) विशेष रुप से पाई जाती है. सूर्य को नैतिक नियमों का सख्ती से पालन करने वाला कहा जाता है. सूर्य को अनुशासन प्रिय भी माना जाता है. जिन व्यक्तियों की कुण्डली के लग्न भाव में सूर्य स्थित होता है. उनमें अनुशासन (discipline) की भावना सामान्य रुप से पाई जाती है. सूर्य के प्रभाव क्षेत्र में रहने वाले व्यक्ति खुशमिजाज होते है. सूर्य उर्जा शक्ति का कारक होने के कारण बिजली पर सूर्य का अधिकार होता है.

सूर्य प्रभावित व्यक्ति नाराज भी होते हैं तो होने के बाद गलतियों को माफ भी कर देते है. ऎसे व्यक्ति मर्यादा में रहकर काम करना पसन्द करते है. इनके काम में लगनशीलता (dedication) की झलक देखी जा सकती है. ये निडर भी होते हैं. इसलिये, सत्य के साथ चलना पसंद करते हैं. सूर्य को न्याय करने वाले शासक के रुप में देखा जाता है. अपने स्वभाव के विपरीत विषयों पर कभी-कभी कठोरता का भाव भी अपना लेते है.

सूर्य क्योकि सभी ग्रहों में राजा है . इसलिये इससे प्रभावित व्यक्तियों को उच्च पद की चाह सदैव रहती है. सूर्य पर अशुभ प्रभाव हो तो अधिकारों का दुरुपयोग होने की संभावनाएं बनती है. परन्तु ऎसा होने पर फल इसके विपरीत प्राप्त होता है. सामान्य रुप से राजाओं में साहस का गुण भी पाया जाता है. इसलिये इस प्रकृति के व्यक्ति साहसी भी होते है.

सूर्य के प्रभाव से होने वाली बीमारियां : (Diseases Occur By Sun)
कुण्डली पर सूर्य किसी प्रकार का अशुभ प्रभाव होने पर हृदय रोग होने की संभावना रहती है. इसके प्रभाव से हाई बल्ड प्रेशर (high blood pressure) जैसे रोग की भी आशंका रहती है. आत्मविश्वास व आत्मशक्ति में कमी की भी संभावना रहती है. सूर्य पर किसी प्रकार का कोई अशुभ प्रभाव होने पर व्यक्ति में रोगों से लड़ने की क्षमता में कमी आती है. सभी प्रकार के बुखार का कारण सूर्य देव को कहा गया है.
सूर्य को मस्तिष्क संबन्धी रोगों के लिये भी देखा जाता है. सिर में दिमाग के कारक सूर्य है. इसलिये सूर्य पर अशुभ प्रभाव में होने पर मानसिक परेशानियां बढ़ने की आशंका रहती है. इसके प्रभाव से रीढ की हड्डी में कष्ट एवं दृष्ट दोष उत्पन्न होता है.

सूर्य से संबन्धित कारोबार: (Business Related to Sun)
सूर्य से जुडे कारोबारों में सरकारी नौकरी, सरकारी संस्थाएं, सुरक्षा, उर्जा निर्माण केद्र, नियंत्रण कक्ष आदि आते है. आजीविका का संबन्ध सूर्य से आने पर इन सभी क्षेत्रों में काम करने पर व्यक्ति को सफलता मिलती है. सूर्य के अन्य कारोबारों में अनाज के गोदाम, राशन की दुकान, चिकित्सा एवं दवाईयों (medical or pharmaceuticals) के काम को लिया जाता है. विद्युत निर्माण केन्द्र, बल्ब, ट्यूब लाईट से जुड़े कामों में प्रशिक्षण प्राप्त कर भी सूर्य प्रभावित व्यक्ति सफलता प्राप्त कर सकते हैं.

सूर्य के उत्पाद:- (Products of Sun)
सूर्य के उत्पादों में गेंहू, चावल, ज्वार, बाजरा, मकई, दालें, मिर्च, मसाले, बादाम, काजू, मूंगफली, नारियल आदि का शामिल किया जाता है. इसके अतिरिक्त सभी टीके, दवाइयां, उपयोगी रसायन, आँक्सीजन, सोने से जुड़े सभी कारोबार तथा सोने का निर्माण इन सभी वस्तुओं को सूर्य के उत्पादों में शामिल किया जाता है.

सूर्य के स्थानों में:- (Places of Sun)
सूर्य के स्थानों में किले (forts), शिवजी का मंदिर, सरकारी इमारतें, दफ्तर, विद्युत निर्माण केन्द्र, अस्पताल, दवाखाना, दवा की कंपनी, दवा की दुकान, चिड़ियाघर को शामिल किया गया है. पौधों में वट वृक्ष में सूर्य का वास माना गया है. पशुओं में सिंह एवं घोड़ा (lion and horse) पर सूर्य का स्वामित्व होता है। पंक्षियों में हंस (swan) को सूर्य के अधिकार में माना जाता है.