ज्योतिषाचार्य बता रहे हैं कि साल 2015 की शुरुआत में सूर्य मकर राशि में संक्रमण करेगा। मंगल 3 जनवरी को कुम्भ राशि में और 1 जनवरी को बुध मकर राशि में प्रवेश करेगा साथ ही साथ शुक्र भी मकर राशि में भ्रमण करेगा। गुरु वक्री होकर सिंह राशि में भ्रमण करेगा तथा शनि वृश्चिक राशि में भ्रमण करेगा। राहु और केतु क्रमशः कन्या और मीन राशि में रहेंगे। इन ग्रहों की स्थिति के आधार पर भाग्य उसके साथ होगा जिससे कार्यों में बाधा नहीं होगी। आय भाव का स्वामी उच्च का होकर भाग्य भाव में होने से आमदनी के नए स्त्रोत खुलेंगे। साल के मध्य में शिक्षा से जुड़े लोगों अपने काम के लिए काफी दौड़ भाग करनी पड़ेगी। योजनाओं के प्रति सकारात्मक बने रहने से लाभ होगा। पैतृक सम्पतित से लाभ मिल सकता है। जो लोग विदेश जाने का प्रयास कर रहे हैं उनको सफलता मिलेगी। काम धन्धे में अड़चने पैदा हो सकती हैं। आमदनी के लिए किये गए प्रयासो में आप सफल होंगे। भोजन के प्रति अरूचि बनी रहेगी। नौकरी वाले अच्छा प्रदर्शन करेगें जिसका उनको लाभ मिलेगा। व्यापार में जैसे तैसे काम चलेगा। साल के अंत में राजनीतिक लोगों के साथ उठना-बैठना होगा। वाहन के प्रयोग में सावधानी बरतें। सफल होने के लिए कार्य करने के तरीके को बदलना पडे़गा। अपने पड़ोसी पर टीका-टिप्पणी न करें अन्यथा विवाद हो सकता है। पिता से वैचारिक मतभेद हो सकता हैं। सोच समझ कर धन खर्च करे क्योकि इस समय आर्थिक स्थिति बिगड़ सकती है। इस समय आप मानसिक थकान से ग्रस्त रहेंगे। रोजगाार के प्रति मन आशावादी रहेगा जिससे अच्छी प्रगति होगी। व्यापार में कोर्इ बड़ा लेन-देन न करें।