वैदिक ज्योतिष के अनुसार जब कोइ ग्रह सूर्य के समीप आता है तो अस्त (Retrograde) हो जाता है. इसका आधार ग्रहो के अंश (Degree of Planets) होते हैं. चूकि लाल किताब (Lal Kitab) अंश के सिद्धान्त (Result of Degree) को मानती नही है अतः यहाँ पर भाव/ ग्रह के सोये होने (Sleepy Condition of House/ Planets ) का नियम लागू होता है.
लाल किताब में भाव की प्रधानता (Importance on House in Lal Kitab) है, ग्रह गौण होता है. ग्रह के सोने में दृष्टि (Planet’s aspects in sleepy Condition) की बहुत महत्ता है. लाल किताब में जो दृष्टि का सिद्धान्त (Result of Aspect) है, वह तय करता है कि कौन सा ग्रह सोया हुआ है. ग्रह के सोया होने का तात्पर्य यह है कि ग्रह शुभ परिणाम देने में कमजोर हो जाता है. एसा लगता है जैसे कि मानो ग्रह को बाँध दिया गया हो व्यक्ति की चाहे खूब क्षमता हो और वह अथक परिश्रम करें परन्तु उसको परिणाम आशा के अनुरुप प्राप्त नही होता. जब कोइ भी ग्रह सोया हुआ हो तो उसे बलवान बनाने या क्रियाशील करने के लिए उस ग्रह का उपाय (Remedy of planet) किया जाता है जिससे वह ग्रह शुभ फलदायी बन जाता है.

इसके लिए लाल किताब की कुण्डली (Kundali in Lal Kitab) में अन्य विशेष ग्रह को भाव में बैठाना पडता है. जब ग्रह स्वंय की राशी, उच्च राशी या अपने पक्के घर (Pakka Ghar) में बैठा हो तो सदा जागृ्त अवस्था में रहता है
अगर दूसरा घर सोया हुआ हो तो चन्द्रमा का उपाय शुभ फल प्रदान करता है. चन्द्र के उपाय के लिए चांदी धारण करना चाहिए. माता की सेवा करनी चाहिए एवं उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए. मोती धारण करने से भी लाभ मिलता है.तीसरे घर को जगाने के लिए बुध का उपाय करना लाभ देता है. बुध के उपाय हेतु दुर्गा सप्तशती का पाठ करना चाहिए. बुधवार के दिन गाय को चारा देना चाहिए.लाल किताब के अनुसार किसी व्यक्ति की कुण्डली में अगर चौथा घर सोया हुआ है तो चन्द्र का उपाय करना लाभदायी होता है.पांचवें घर को जागृत करने के लिए सूर्य का उपाय करना फायदेमंद होता है. नियमित आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ एवं रविवार के दिन लाल भूरी चीटियों को आटा, गुड़ देने से सूर्य की कृपा प्राप्त होती है.छठे घर को जगाने के लिए राहु का उपाय करना चाहिए. जन्मदिन से आठवां महीना शुरू होने पर पांच महीनों तक बादाम मन्दिर में चढ़ाना चाहिए, जितना बादाम मन्दिर में चढाएं उतना वापस घर में लाकर सुरक्षित रख दें. घर के दरवाजा दक्षिण में नहीं रखना चाहिए. इन उपायों से छठा घर जागता है क्योंकि यह राहु का उपाय है.
सोये हुए सातवें घर के लिए शुक्र को जगाना होता है. शुक्र को जगाने के लिए आचरण की शुद्धि सबसे आवश्यक है.सोये हुए आठवें घर के लिए चन्द्रमा का उपाय शुभ फलदायी होता है जिनकी कुण्डली में नवम भाव सोया हो उनहें गुरूवार के दिन पीलावस्त्र धारण करना चाहिए. सोना धारण करना चाहिए व माथे पर हल्दी अथवा केशर का तिलक करना चाहिए. इन उपाय से गुरू प्रबल होता हैऔर नवम भाव जागता है.दशम भाव को जागृत करने हेतु शनिदेव का उपाय करना चाहिए.एकादश भाव के लिए भी गुरू का उपाय लाभकारी होता है.अगर बारहवां घ्रर सोया हुआ हो तो घर मे कुत्ता पालना चाहिए. पत्नी के भाई की सहायता करनी चाहिए. मूली रात को सिरहाने रखकर सोना चाहिए और सुबह मंदिर मे दान करना चाहिए